Spinning Top Candlestick - Definition Full Knowledge In Hindi

        



        Spinning Top Candlestick - Definition


दोस्तों अगर आप स्पिनिंग टॉप कैंडल के बारे में जानना चाहते हैं और सीखना चाहते हैं तो आप बिलकुल सही जगह पर हैं मेरी पोस्ट को ध्यान से और पूरा अंत तक पढ़ें 


स्पिनिंग टॉप कैंडल :- 

यह एक बहुत ही बढ़िया कैंडल है ये मारबुजु की तरह एंट्री और एग्जिट तो नहीं बताती लेकिन यह बाज़ार के मौजूदा हालात के बारे में काफी अहम् जानकारी देती है जिसकी वजह से ट्रेडर के लिए बाजार में अपनी पोजीशन बनाना आसान हो जाता है।


Also Read : What is Multibagger stocks & how to find it - मल्टी बैगर स्टॉक कौन होते हैं और इन्हे कैसे ढूंढे


हम यहां आपको स्पिनिंग टॉप के कैंडल का स्क्रीन शॉट दिखा रहे हैं देखिये और बताइये की इसमें आपको क्या खास दिख रहा है । 



१. इन कैंडल में रियल बॉडी काफी छोटी है। 

२. अपर और लोअर शैडो लगभग एक बराबर हैं।


दिखने में तो ये कैंडल बहुत ही सीधा सा और छोटी रियल बॉडी वाला कैंडल होता है, लेकिन वास्तव में इसमें दिन में हुई बहुत सारी घटनाओं के संकेत छुपे होते हैं। अगर हम इन घटनाओं पर नज़र डालें तो


Spinning Top Candlestick - Definition


1. छोटी रियल बॉडी :- इसमें ओपन कीमत और क्लोज कीमत एक दूसरे के काफी करीब हैं। उदाहरण के तौर पर ओपन कीमत ११० और क्लोज कीमत ११३ हो सकती है या फिर ओपन कीमत ११० और क्लोज कीमत १०७ हो सकती है। इन दोनों ही हालात में स्मॉल रियल बॉडी बनना एक आम बात है ऐसे में ३ का बदलाव ज्यादा मायने नहीं रखता है।


Also Read : Stock Market Prediction For 2021


क्योंकि ओपन कीमत और बंद यानी क्लोज कीमत एक दूसरे के इतने करीब हैं इसलिए ऐसे में कैंडल के रंग का भी कोई बहुत मतलब नहीं रह जाता है। कैंडल हरे रंग का हो या लाल रंग का इससे कोई अंतर नहीं पड़ता, मतलब की बात ये होती है कि open कीमत और close कीमत एक दूसरे के काफी करीब होती हैं।


2. अपर शैडो:-  ये  Real बॉडी को दिन के सबसे उच्चतम स्तर से जोड़ता है। अगर यह लाल कैंडल है तो हाई और ओपन एक दूसरे से जुड़ते हैं और अगर यह हरा कैंडल है तो हाई और क्लोज एक दूसरे से जुड़ते हैं। अगर आप लोअर शैडो को कुछ समय के लिए भूल जाएं, और सिर्फ छोटे रियल बॉडी और अपर शैडो पर ही ध्यान दें तो आप क्या समझेंगे बाजार में क्या हुआ होगा ?


अपर शैडो का बनना ये होना यह बताता है कि बाजार में बुल्स यानी तेजी करने वालों ने बाजार को ऊपर ले जाने की कोशिश तो पूरी की लेकिन वह अपनी इस कोशिश में सफल नहीं हुए। अगर वो अपनी इस कोशिश में सफल हुए होते तो रियल कैंडल हरे रंग का एक लंबा कैंडल होता एक छोटा कैंडल नहीं।


Also Read : What is the Dividend - Definition of the Dividend


3. लोअर शैडो:- लोअर शैडो रियल बॉडी को दिन के लो प्वाइंट यानी सबसे निचली कीमत से जोड़ता है। अगर यह लाल कैंडल है तो लो और क्लोज एक साथ जुड़ते हैं और अगर यह हरा कैंडल है तो लो और ओपन आपस में जुड़ते हैं। अगर आप रियल बॉडी और लोअर शैडो को एक साथ देखें और ऊपर की शैडो की ओर ध्यान भी ना दें, तो आपको क्या दिखेगा , क्या हुआ होगा मार्किट में ?


एक दम वैसा ही जैसा की बुल्स के साथ भी हुआ था, लोअर शैडो का वहां होना इस बात का संकेत होता है कि बेयर्स ने बाजार को कंट्रोल में लेने की और बाजार को नीचे खींचने की पूरी कोशिश की लेकिन वह अपनी इस कोशिश में सफल नहीं हो पाए ।  अगर बेयर्स अपनी कोशिश में सफल होते तो रियल बॉडी काफी लंबी होती और यह लाल रंग की होती तथा एक छोटी कैंडल नहीं होती इसलिए इसको मंदी वालों की एक कोशिश भर ही माना जाएगा।


अब अगर आप इसके पूरे सारांश की व्याख्या या परिभाषिसित करें तो कैंडल की सम्पर्ण बॉडी के तीनो भागों ( अपर शैडो , बॉडी और लोअर शैडो ) को देख कर पता चलता है की बुल्स ने एक कोशिश की बाजार को ऊपर ले जाने की जो सफल नहीं हुई, बेयर्स ने भी कोशिश की बाजार को नीचे ले जाने की लेकिन वे भी इसमें सफल नहीं हो पाए ।


तेजी के खिलाड़ी और मंदी के खिलाड़ी यानी बुल्स और बेयर्स दोनों ने बाजार को अपने कब्जे में लेने की कोशिश की, लेकिन उनकी ये कोशिश सफल नहीं हुई। छोटी रियल बॉडी यही दिखाती है। इसीलिए स्पिनिंग टॉप अनिश्चितता को दर्शाने वाला कैंडल है और बाजार कभी भी कहीं भी जा सकता है मतलब ये की बुल और बेयर कोई भी शेयर पर हावी हो सकता है ।


Also Read : Shooting Star Candlestick Pattern


अब आप समझ गए होंगे की स्पिनिंग टॉप क्या होती है और ये क्यों बनती है अब हम जानंगे की मंदी में और तेज़ी में स्पिनिंग टॉप बनने का क्या मतलब होता है ।


जब मंदी चल रही होती है तो मार्किट में बेयर्स का कब्जा होता है। इसके  बनने के समय हो सकता है कि बेयर्स बिकवाली करने के नए दौर की तैयारी कर रहे हों। जबकि बुल्स की कोशिश होती है कि बाजार में गिरावट को थाम सके ,लेकिन इन दोनों की ये कोशिश सफल नहीं हो पा रही होती है।


अगर इनकी ये की कोशिश सफल होती तो यह एक हरे कैंडल वाला दिन होता ना कि एक स्पिनिंग टॉप वाला। ऐसे में स्पिनिंग टॉप को देखते हुए आप क्या फैसला करेंगे ? क्योंकि जैसा हमने बताया की स्पिनिंग टॉप का मतलब अनिश्चितता होता है तो आपको क्या करना चाहिए अनिश्चितता का मतलब बाजार अभी अगले दिन और निचे जा सकता है या फिर बुल का कब्ज़ा बाजार में हो जाता है और मार्किट बूलिश हो जाता है ।


ऐसे में जब तस्वीर साफ़ न हो तो ट्रेडर्स को दोनों तरफ की पोजीशन के लिए तैयार रहना चाहिए बल्कि मै तो ये कहूँगी की ट्रेडर्स को ऐसे में ट्रेड नहीं करना चाहिए 


अगर आप फिर भी ट्रेड लेना चाहते हैं तो कुछ सावधानी के साथ ले सकते हैं वो मै बताती हूँ कैसे :-


ऐसी स्थिति में आपको अपनी कुल पूंजी का आधा ही इस समय लगाना चाहिए। मतलब अगर आपका इरादा 500 शेयर खरीदने का था तो आपको इस समय सिर्फ 250 शेयर ही खरीदने चाहिए, और इंतज़ार करना चाहिए। यह देखना चाहिए कि बाजार का रुख क्या होता है और बाजार किधर जाता है मान लीजिये कि अगर बाजार वास्तव में ऊपर की तरफ जाने लगा तो आपको शेयर सबसे नीची कीमत पर मिल चुका होता है । 


Also Read : Dark Cloud Cover Definition and Example


लेकिन मान लीजिए ट्रेडर्स का फैसला गलत था और शेयर की कीमत बढ़ने की जगह और गिरने लगती है तो भी ट्रेडर को आधा ही नुकसान होगा क्योंकि उसने आधे शेयर ही खरीदे हैं।


यहां मै आपको दो चार्ट शेयर करुँगी जिसमे स्पिनिंग टॉप बनने के बाद शेयर एक चार्ट में तो ऊपर जाता है जबकि दूसरे में ऐसे नहीं होता है ।


स्पिनिंग टॉप चार्ट १ :- यहां आप देखेंगे की कई सारी स्पिनिंग टॉप बनने के बाद भी शेयर लगातार निचे ही गया है 


स्पिनिंग टॉप चार्ट २ :- यहां आप देखेंगे की कई सारी स्पिनिंग टॉप बनने के बाद भी शेयर निचे नहीं गया है बल्कि उसकी चाल बदल गयी जो काफी समय तक वही रही 



इसका सारांश ये है की एक ट्रेडर अपना ट्रेड स्पिनिंग टॉप बनने के बाद बना तो सकता है लेकिन सतर्कता के साथ 


Read This : How To Become A Successful Traders In Share Market


कुछ गौर करने वाली बात यहां दी गयी हैं जो आपके लिए जानना बेहद जरूरी है

१ . बुल्स / बेयर की बाजार पर पकड़ कमजोर हो गयी है, ऐसा नहीं होता तो स्पिनिंग टॉप नहीं बनता। 

२ . स्पिनिंग टॉप बनने का मतलब है कि बाजार में बेयर्स / बुल्स का प्रवेश हो चुका है। हालांकि अभी वो सफल नहीं हुए हैं 

३ . स्पिनिंग टॉप बताता है कि - बाजार में असमंजस की स्थिति है और बुल्स और बेयर्स, दोनों में कोई भी बाजार पर अपनी पूरी तरीके से पकड़ नहीं बना पा रहा है।

४. बाजार में आधी पोजीशन के साथ जाएँ पूरा पैसा न लगाएं 


मुझे उम्मीद है की आपने पूरी तरह  स्पिनिंग टॉप का मतलब समझ लिया होगा और ये भी समझ गये होंगे की ये कब और किन परिस्थितियों में बनता है और आपको इसके बनने के बाद क्या करना होता है कृपया इसको अच्छे से समझलें मै ये अध्याय यहीं समाप्त करती हूँ और हम आगे जानेंगे अगली कैंडल स्टिक के बारे में ---- धन्यवाद् 


Must Read This Also :-

1. Paper umbrella Candle Stick pattern - पेपर अम्ब्रेला पैटर्न2. Candle Stick Pattern In Hindi3. Morning star / Evening star ( Candle Stick Pattern )4. Harami Candle Stick Pattern - Bullish & Bearish Harami Pattern5. Dark Cloud Cover Definition and Example6. Piercing Candle Stick Pattern - Definition in Hindi7. Engulfing Candlestick Strategy - DEFINITION8. Doji Candlestick Pattern In Hindi - Definition9. Spinning Top Candlestick - Definition10. Marubuzu Candle Stick Pattern In Hindi11. How To Make A Profit In The Stock Market - शेयर मार्केट में लाभ कमाने का तरीका
Spinning Top Candlestick - Definition

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ