What is RSI Technical indicator? - RSI क्या है? ( Relative Strength Index )





What is RSI Technical indicator?

RSI क्या है? ( Relative Strength Index )


दोस्तों अभी कुछ दिन पहले मुझसे क्वोरा पर और मेरे टेलीग्राम चेंनल पर कुछ लोगों ने मुझसे पूछा था कि What is RSI technical indicator? - ( Relative Strength Index ) और उन्होंने मुझसे आग्रह भी किया था कि आप You Tube पर विडिओ भी बनायें किन्तु मै क्षमा चाहती हूँ कि वक़्त की कमी की वजह से मै वीडियो तो नहीं बना सकती


किन्तु आपको अपने ब्लॉग के जरिये इसको अच्छे से समझा अवश्य सकती हूँ अगर आपको कहीं भी किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत हो या समझने में परेशानी हो तो कमेंट करके पूछ सकते हैं तो चलिए शुरू करते हैं जानना कि RSI इंडिकेटर क्या है 


Read This Also : How to make money from share market - शेयर मार्किट से पैसा कैसे कमायें


RSI इंडेक्स का फुल फॉर्म है Relative Strength Index और स्टॉक मार्किट में चार्ट में सबसे ज्यादा उपयोग में लाया जाता है इसको विकसित करने वाले व्यक्ति का नाम जे. वेल्स वाइल्डर है RSI एक ऐसा इंडिकेटर है जो ट्रेड के रिवर्सल की पहचान करता है और हमें मार्किट में सही एंट्री और एग्जिट को बताता है


RSI इंडिकेटर जीरो से सौ ( ० से १०० ) के बीच में ही रहता है और इसके द्वारा बाजार की दिशा का अनुमान लगाया जाता है ये ट्रेडर के बीच  काफी लोकप्रिय है क्योंकि ये साइड वेज मार्किट में भी और बिना ट्रेड वाली मार्किट में भी बहुत मजबूत संकेत देता है 


RSI की गणना कैसे करें 

RSI की गणना को आप निम्न प्रकार से कर सकते हैं 

शायद आपको समझने में कुछ दिक्कत हो रही हो तो आपको मै थोड़ी सरल भाषा में और चार्ट के द्वारा समझाने कि कोशिश करती हूँ नीचे जो मैंने एक चार्ट दिखाया है उसमे GAIN और LOSS अपने पिछले दिन के क्लोज प्राइस में गेन और लोस्स को दिखा रहा है मै कुछ  भाषा में इसको एक उदाहरण से समझाती हूँ


Read This Also : How To Make A Profit In The Stock Market - शेयर मार्केट में लाभ कमाने का तरीका


मानलीजिए कि आज का क्लोज ११८ और कल का क्लोज ११४ था तो बढ़त ४ पॉइंट की होगी और नुक्सान जीरो क्योंकि मार्किट कल के बंद से आज ऊपर बंद हुआ और इसी प्रकार अगर आज का क्लोज ११४ और कल का क्लोज ११८ था तो अब ४ पॉइंट गिरावट यानि की नुक्सान होगा और बढ़त जीरो होगी इसमें ध्यान दें कि हार की गणना सकारात्मक मान के रूप में करते हैं 


आप देख सकते हैं कि हमने यहाँ गणना के लिए १४ डाटा बिंदुओं को लिया है जो कि चार्ट के सॉफ्टवेयर में डिफ़ॉल्ट सेटिंग है और प्रति घंटा वाले चार्ट में डिफ़ॉल्ट अवधि १४ घंटे और दिन के एक दिन के चार्ट में ये अवधि १४ दिन की होती है पहला कदम जो होता है वो है RS की गणना करना जिसको RSI फेक्टर भी कहते हैं जैसा कि आप ऊपर दिए गए फार्मूला में भी देख सकते हैं कि RS का मतलब औसत नुक्सान और औसत बढ़त होती है 



POINT में औसत नुक्सान = १० / १४ = ०.८१४ 

POINT में औसत बढ़त = २९ / १४ = २.०७

RS = २.०७ / ०.७१४  =  २.८९९१ 


Read This : What is multibagger stocks & how to find it


अगर इस फार्मूला में RS को डाला जाये तो 

१०० - {१०० / (१+२.८९९१ ) }

१०० - ( १०० / ३.८९९१ )

१०० - २५.६४६९  =  ७४.३५३१ ( RSI )


RSI को हम ट्रेड रिवर्सल का सिग्नल इसलिए कहते हैं क्योंकि ये मुख्य रूप से ओवर बॉट और ओवर सोल्ड का दर्शाता है और ये हमारे लिए इसीलिए महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इसके द्वारा हमें पता चल जाता है  किस समय मार्किट ओवर बॉट है और कब ये ओवर सोल्ड तो हमें कब खरीदारी करनी चाहिए और कब बिकवाली करनी चाहिए


हालांकि ये कभी कभी काफी समय तक ओवर बॉट या ओवर सोल्ड रह सकता है किन्तु ऐसे समय पर भी स्टॉक में ट्रेड किया जा सकता है इसको एक उदाहरण से समझते हैं मानलीजिए किसी शेयर की कीमत ५०० थी और वो पिछले एक महीने से बढ़ते - बढ़ते ६५० तक पहुँच गया है और RSI हमें सिग्नल दे रहा है कि स्टॉक अब ओवर बॉट है


तब हमें इसमें कुछ पैरामीटर जैसे मैंने पहले भी आपको बताया था मूविंग एवरेज और एक्सपोनेंसिअल मूविंग एवरेज के बारे में भी और अगर ऐसे में स्टॉक थोड़ा और ऊपर भी जाता है तो आपका नुक्सान भी सीमित ही होगा क्योंकि जैसा कि आप जानते ही होंगे कि स्टॉक सीधे एक ही तरफ नहीं जाता है और ये पहले ही ५०० से ६५० तक हो चूका है वो भी एक महीने में तो और कितना भागेगा


Read This : How To Become A Successful Traders In Share Market


ओवर बॉट बताता है कि खरीद का मोमेंटम इतना अधिक है कि ये अब लम्बे समय तक टिक नहीं सकता और कभी भी करेक्शन आ सकता है और ओवर सोल्ड में भी इसके विपरीत कि बिकवाली का मोमेंटम इतना अधिक है कि किसी भी समय खरीदार आ सकते हैं


वैसे मेरी सलाह ये रहेगी कि जब स्टॉक ओवर सोल्ड हो और वो क़्वालिटी स्टॉक हो तो ऐसे में आप खरीदारी करके चलें तो ज्यादा बढ़िया रहेगा और आपका नुक्सान न के बराबर होगा


क्योंकि बढ़िया स्टॉक और वो भी ओवर सोल्ड जब वो बढ़िया ही है तो उसकी बिकवाली कभी भी रुक सकती है और खरीदारों का प्रवेश कभी भी हो सकता है क्योंकि लम्बे समय में मार्किट हमेशा ऊपर ही जाता है हो सकता है कि अच्छा स्टॉक कुछ समय तक साइड वेज रहे किन्तु उसमे रैली कभी भी आ सकती है 


Read This : Technical Analysis In Hindi Part -1/टैक्निकल एनालिसिस भाग- १


कुछ और ध्यान रखने योग्य बातें :- 

१. एक स्टॉक जो निरंतर ऊपर जा रहा है ( याद रहे कि ये ट्रेंड कुछ हफ़्तों तक या महीनो तक भी चल सकता है ) ऐसे में ये ओवर बॉट काफी लम्बे समय तक ओवर बॉट में फंस सकता है मै इसको एक चित्र में दिखाती हूँ   



उसका कारण  ये है की RSI ओवर बॉट को १०० के ऊपर ले कर नहीं जा सकता इसलिए ये १०० पर ही फंसा रहेगा इसीलिए मैंने बताया कि किसी भी एक पैरामीटर का प्रयोग ना करें स्टॉक जितने अधिक पैरामीटर पर खरा उतरे उतना बढ़िया होता है 


Read This : Technical Analysis In Hindi Part -3 / टैक्निकल एनालिसिस भाग- ३


२. एक स्टॉक जो लगातार नीचे जा रहा है ऐसे में ये ओवर सोल्ड  काफी लम्बे समय तक ओवर सोल्ड में अटक सकता है उसका कारण ये है की RSI ओवर सोल्ड को ० ( जीरो ) के नीचे ले कर नहीं जा सकता इसलिए ये जीरो पर ही फंसा रहेगा और ये कुछ समय तक बना रह सकता है 



दोस्तों RSI एक ऐसा पैरामीटर है जिसका उपयोग लगभग सभी करते हैं वो चाहे शार्ट टर्म ट्रेडर्स हों या इन्वेस्टर लेकिन इसका प्रयोग इंट्राडे में नहीं करना चाहिए 

तो मेरे हिसाब से अब आपको RSI का मतलब समझ में आ गया होगा अगर आपको कहीं भी कोई डॉउट हो या आपका कोई सवाल हो तो आप मुझसे पूछ सकते हैं आप चाहें तो मुझे क्वोरा पर भी फॉलो कर सकते हैं और यहां भी ताकि मेरी नयी आने वाली पोस्ट का आपको नोटिफिकेशन मिल जाये मै आपको शेयर मार्किट की नयी - नयी जानकारी देती रहूंगी - धन्यवाद 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ