Stock Volume - How To Use Volume To Improve Your Trading



Stock Volume - How To Use Volume To Improve Your Trading


तो आज मै जिन विषयों पर चर्चा करने जा रही हूँ वो खास तौर पर उन ट्रेडर्स के लिए जो मार्किट में नए हैं और ये पोस्ट  उनके आग्रह पर ही लिख रही हूँ क्योंकि उन्होंने मेरे लेख पढ़ने के बाद मुझसे बोला कि वे अब प्रैक्टिकली भी सीखना चाहते है तो हमें चार्ट बनाना , RSI , Volume , Share  Buy Back , डिविडेंड आदि के बारे में भी बतायें तो मै आपको इन सबके विषय में विस्तार से बताउंगी और उसके फायदे और नुक्सान भी बताउंगी


तो दोस्तों चार्ट तो हम बाद में सीखेंगे पहले इसमें इस्तेमाल होने वाले पैरामीटर को जान लेते है और शुरुआत करते हैं वॉल्यूम से कि शेयर वॉल्यूम का शेयर पर क्या असर होता है 


Read This : How to make money from share market - शेयर मार्किट से पैसा कैसे कमायें


Stock Volume - How To Use Volume To Improve Your Trading


वॉल्यूम का शेयर मार्किट में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है वो यूँ की जैसा मैंने आपको अपनी पिछली पोस्ट शेयर मार्किट से पैसा कमाने का तरीका में बताया भी था की ये ट्रेंड की और पैटर्न की पुष्टि करने में बहुत ज्यादा ट्रेडर्स की मदद करता है बाजार में लोगों का रुझान किस तरफ है ये तो ऐसे ही पता चल जाता है उसकी बढ़त देख कर


किन्तु अगर बढ़त हाई वॉल्यूम के साथ होती है तो इसका मतलब कि कुछ विशेष लोग इसमें रूचि दिखा रहे होते हैं और उनके वॉल्यूम इतने अधिक होते हैं कि शेयर का भाव एकदम से बढ़ रहा है इसका आप क्या मतलब निकालेंगे , साफ़ है कि जब कुछ बड़े लोग किसी भी कंपनी में मोटा पैसा इन्वेस्ट कर रहे हैं तो उन्हें अच्छे से मालूम होता है की इसमें क्या बढ़िया न्यूज़ है या आने वाली है



लेकिन जरा सोचिये की आपको कैसे पता चलेगा की किस शेयर में क्या न्यूज़ है या आने वाली है क्योंकि आप बहुत छोटे ट्रेडर हैं और आप केवल न्यूज़ पर या न्यूज़ पेपर पर ही डिपेंड होते हैं और जब आप न्यूज़ सुनकर शेयर खरीदते हो तो बड़े इन्वेस्टर अपना प्रॉफिट बुक कर लेते हैं अब इसका इलाज सिर्फ और सिर्फ एक ही है की जब किसी शेयर में अचानक से वॉल्यूम के साथ खरीदारी हो रही हो तो कुछ और पैरामेटर के साथ अगर ये फिट बैठता है तो इसे छोड़ना नहीं चाहिए तुरंत लपक लेना चाहिए


लेकिन मै वॉल्यूम को डे चार्ट में देखना पसंद करती हूँ और आपको भी सलाह यही दूंगी। आगे कुछ आपको समझाने से पहले मै आपको एक चार्ट दिखाती हूँ जो की आईटी की एक दिग्गज कंपनी है HCL TECH का है इसमें आप देख सकते हैं की ८०० पर इसने हाई वोलुम के साथ बढ़त दिखाई और ८९९ तक जाने के बाद हल्का करेक्शन दिया फिर नॉन स्टॉप भगा है और १०५५ तक गया फिर लाल गोले में उसने हाई वॉल्यूम के साथ बिकवाली हुई और शेयर वापिस ८९९ तक गया


चित्र नं. 1

चित्र नं. 2 

       


ये दूसरा चित्र पहले वाले चित्र का अगला भाग है जहां शेयर ८४० से भगा है और १०५० पर फिर से इसमें हाई वॉल्यूम के साथ बिकवाली हुई और ये फिर वापिस ९१० तक आ गया



अब शायद आपका सवाल ये होगा की बहुत से स्टॉक बिना वॉल्यूम के भी लगातार भागते है तो इसमें अच्छी और नई बात क्या है तो मै आपको बता दूँ की बिना वॉल्यूम के शेयर के भागने में आप कॉंफिडेंट नहीं होते हो की ये क्यों भाग रहा है आखिर इसमें ऐसी क्या बात है लेकिन वॉल्यूम के साथ भागने वाले शेयर को आप पकड़ेंगे तो कम ही नुक्सान में होंगे क्योंकि ये तरकिा कम ही फ़ेल होता है जिसका कारण है इसमें स्मार्ट निवेशक की मौजूदगी


आपको जो बात ध्यान रखनी चाहिए वो हैं :-


1. हाई वॉल्यूम  + कीमत में बढ़ोतरी तो शेयर लेना चाहिए 
2. हाई वॉल्यूम  + कीमत में कमी तो इग्नोर करना चाहिए 
3. कम वॉल्यूम  +  कीमत में बढ़ोतरी तो इग्नोर करना चाहिए 
4. कम वॉल्यूम  +  कीमत में कमी तो इग्नोर करना चाहिए 


कहने का तात्पर्य ये है की आपको बड़े इन्वेस्टर के साथ काम करना चाहिए जिसे हम स्मार्ट इन्वेस्टर भी कहते हैं ये DIIS और FIIS हैं जैसे HDFC,  AXIS बैंक , LIC आदि अब जो मैंने ऊपर आपके दिमाग में जो सवाल हो सकता है बताया था उसका विस्तृत जवाब देती हूँ अगर वॉल्यूम कम हैं तब भी शेयर की कीमत बढ़ रही हैं तो आप क्या देखेंगे और सोचेंगे 


Read This : How To Select A Stock to Invest In Share Market For Consistent Return


१. आखिर कीमत क्यों बढ़ रही हैं 


Ans. कीमत बढ़ने का कारण होता है की बाजार में खरीदारी हो रही है


२ . क्या कोई बड़ा इन्वेस्टर मार्किट में बुलिश है जिसकी वजह से कीमत बढ़ रही हैं 


Ans.
 कम संभावना है की वे खरीदारी कर रहे हैं 

३ . आपको कैसे पता चलेगा कि स्मार्ट इन्वेस्टर शेयर को खरीद रहे हैं 

Ans. बड़ा सिंपल हैं अगर वे लोग खरीदारी कर रहे होते तो वॉल्यूम अधिक होता 


४ . तो अगर वॉल्यूम घट रहे हैं और तब भी शेयर बढ़ रहे हैं तो उसका क्या अर्थ है 


Ans. 
तो इसके दो कारण हो सकते हैं एक ये की खुदरा ट्रेड मतलब आप और हम और दूसरा कि ग्लोबल  मार्किट जो हमारे शेयर पर प्रभाव डाल रहा है और ऐसे में आपको सतर्कता के साथ ट्रेड करना चाहिए  

Read This : Best Share Market Books In India


अब अंत में कुछ ध्यान देने योग्य बातें मै आपको बता दूँ कि आपको अपने नियम को हमेशा याद रखना है की 


1. मजबूती में खरीदारी करना है

2. कमज़ोरी में आपको बिकवाली करना है

3. हमेशा स्मार्ट इन्वेस्टर को फॉलो करना है 

4. अगर स्टॉक में जाना पहचाना कैंडल बने तो और भी बढ़िया है 

5. स्टॉक अगर S & R के पास बने तो और भी अच्छा है 

6. वॉल्यूम को ट्रेंड की पुष्टि करना चाहिए और अपने एवरेज से अधिक होना चाहिए

7. हाई वॉल्यूम स्मार्ट इन्वेस्टर की मौजूदगी बताता है और हमें हमेशा उनको फॉलो करना चाहिए क्योंकि उनको भविष्य का  है और अनुमान होता है कि 
किस शेयर में कब और क्या न्यूज़ आ रही है 

8. लो वॉल्यूम से आपको बचना है 

तो दोस्तों मै अपना ये अध्याय यहीं समाप्त करती हूँ कृपया कमेंट में ये अवश्य बताएं की आपको मेरी ये पोस्ट कैसी लगी और आपका कोई सवाल हो या सुझाव हो तो वो भी बताएं अब मिलते हैं अगले अध्याय में जिसमे मै आपको बाय बैक , PE रेश्यो के बारे में बताउंगी ये क्या होते हैं और इनका शेयर की वैल्यू पर क्या असर होता है आप मुझे फॉलो भी कर सकते है आपको शेयर के बारे में मै ऐसी ही काम की जानकारी देती रहूंगी
- धन्यवाद्

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ