What is Multibagger stocks & how to find it - मल्टी बैगर स्टॉक कौन होते हैं और इन्हे कैसे ढूंढे





What is multibagger stocks & how to find it

मल्टी बैगर स्टॉक कौन होते हैं और इन्हे कैसे ढूंढे


बहुत से लोगों का ये सवाल होता है कि " मल्टी बैगर स्टॉक कौन होते हैं और इन्हे कैसे ढूंढे - What is multibagger stocks & how to find it " और ये  सिर्फ एक सवाल ही नहीं हर एक व्यक्ति की ख्वाहिश होती है कि वो मल्टीबैगर स्टॉक को ढूंढ पाए और उसमे निवेश कर जल्दी से अपने पैसे को दुगना या तीन गुना कर पाए तो आज मै आपको कुछ तरीका बताने जा रही हूँ सो कृपया आप मेरी पोस्ट को पूरा पढ़ें यक़ीनन आपको काफी लाभ होगा 


तो चलिए शुरू करते हैं कि मल्टी बैगर स्टॉक कौन होते हैं या मल्टीबैगर स्टॉक किन्हे कहते हैं :-


मल्टीबैगर वे स्टॉक होते हैं जिनमे उनके IPO आने से ले कर जब आपने इसे लिया था तब से लेकर अब तक कई बार वृद्धि हो चुकी हो और इसकी कीमत ५० से बढ़कर कम से कम १०० हो गयी हो इसी दुगनी हुई कीमत को २ बैगर यानि मल्टी बैगर कहा जाता है इसको पेन्नी स्टॉक भी कहते हैं ये मुख्यतया वो स्टॉक्स होते हैं जिनका फंडामेंटल बहुत मजबूत होता है, कम्पनी पर कोई क़र्ज़ न हो और कम्पनी के पास भविष्य के लिए अच्छी प्लानिंग या रणनीति हो  

Read This Also : Stock Volume - How To Use Volume To Improve Your Trading


अब चाहे आप स्टॉक मार्किट में नये हों या पुराने अच्छे मल्टीबैगर स्टॉक्स को चुनने के लिए आपको कम्पनी का फंडामेंटल को देखना चाहिए उससे ही उसके भविष्य का पता चलता है अगर आप चाहते हैं कि इस साल यानि २०२१ में कौन से शेयर मल्टीबैगर होंगे तो हमारे साथ बने रहें मै आपको यहां सारी जानकारी दुंगी 


कुछ कारण लोगों की सोंच और वक़्त की मार भी कुछ एक को मल्टीबैगर  बना देता है जैसे अगर इस समय की अगर बात की जाये तो COVID 19 में E - कॉमर्स में तथा बीमा सेक्टर में लोगों का काफी रुझान दिखा उसका कारण ये है कि लोगों ने शॉपिंग या फ़ूड आइटम्स और राशन का सामान ऑनलाइन मंगवाया और रही बात बीमा की तो COVID 19 के बाद लोगों को इसका महत्व समझ में आया तो बीमा सेक्टर में भी अच्छा रुझान देखने को मिला 


पिछले साल यानि २०२० में COVID 19 के चलते एक बहुत बड़ी गिरावट आई जिसकी कभी किसी ने कल्पना भी नहीं की किन्तु ये गिरावट भी सिर्फ कुछ ही दिन रही और बाज़ार ने कई बार हाई का रिकॉर्ड तोडा और ये २०२१ में भी बना हुआ है मल्टीबैगर स्टॉक्स के चुनाव के सवाल का एक जवाब भारत की GDP को देखना और इसकी निगरानी करना भी है


क्योंकि भारत सरकार का फोकस जिस ओर होता है तो उसी हिसाब से मार्किट में भी आत्मविश्वास बढ़ता है  उसी हिसाब से सरकार का फोकस जिस - जिस ओर होता है वहाँ आपको तेज़ी भी दिखेगी जैसे इस समय की बात की जाये तो सरकार का फोकस भारत को आत्मनिर्भर बनाने का है तो ऐसे में ये कुछ सेक्टर को फायदा पहुंचा सकता है ये कोई जरूरी नहीं होता की सारे पेन्नी स्टॉक्स मल्टीबैगर हों आपको इन्हे चुनने के लिए कुछ बातों ध्यान रखना होता है वो मै आपको बताती हूँ 


Read This Also : How to make money from share market - शेयर मार्किट से पैसा कैसे कमायें


1. कम्पनी के ऋण को देखें
 


एक अच्छा RATIO ऋण और इक्विटी का RATIO है यह कंपनी के ऋण को जज करने का एक बेहतरीन तरीका है जो कम्पनियां अपने बिज़नेस को सुचारु रूप से चलाने के लिए अपनाती हैं ये RATIO ०.५ से कम होना चाहिए जिन कम्पनियों ने बहुत ज्यादा ऋण लिया हुआ होता है उन्हें उधार दाताओं के भुगतान के समय दिक्कत हो सकती है 




2. कम्पनी व उद्योग को देखें समझें 

आज के इस नये भारत में कम्पनी को देखना और उसके उद्योग के बारे में जानना बेहद जरुरी है हमें ये देखने की आवश्यकता है कि सरकार का फोकस किस ओर है और क्या कंपनी उस सेक्टर से आ रही है या नहीं यह समझना भी बेहद जरुरी है की कुछ सेक्टर में विकास आखिर क्यों रुका हुआ है इन सबकी जानकारी से ही हम अपने पसंद के शेयर को चुन पाएंगे आपको ये देखने की आवश्यकता है कि क्या COVID दोबारा आ सकता है या टीकाकरण या किस कम्पनी का टीका ज्यादा सफल हुआ, क्या LOCKDOWN दोबारा सकता है इन सब बातों का रखना पड़ेगा  



3. कम्पनी के वर्तमान और भविष्य के प्रस्ताव 


आपको देखना चाहिए कि कम्पनी की भविष्य के लिए क्या प्लानिंग है उसके उत्पाद क्या हैं और वर्तमान में उसका कितना कॉम्पिटिशन है क्या जो उसके उत्पाद हैं उनकी डिमांड भविष्य में भी ऐसी ही रहने वाली है या बढ़ने वाली है 


4. मार्जिन को देखना 

कंपनी के ग्रॉस और नेट प्रॉफिट मार्जिन व्यापर के औसत ज्यादा होना चाहिए नेट प्रॉफिट मार्जिन इस बात संतत होता है कि व्यापर से कितना राजस्व इकठ्ठा हुआ है ये कंपनी के लिए काफी लाभदायक होता है और ग्रॉस प्रॉफिट यानि सकल लाभ मार्जिन कंपनी  राजस्व से जो वस्तु बेचीं गयी है की प्रत्यक्ष लागत की कटौती से प्राप्त होता है 


5. कम्पनी की कमाई में बढ़ोतरी देख कर 

आप कम्पनी की EPS ( कमाई पर शेयर ) को देख कर कमाई का अंदाजा लगा सकते हैं अगर कम्पनी की कमाई अच्छी हो रही है तो ये आने वाले समय में एक मल्टीबैगर हो सकती है 


6. कम्पनी के प्रमोटर की होल्डिंग देखकर 

एक अच्छी कंपनी पास अच्छा मैनेजमेंट होना अत्यंत आवश्यक है और अगर कम्पनी के प्रोमोटर के पास अच्छी होल्डिंग है और अगर उसका कार्य  तरीका अच्छा है  तय है कि उसका भविष्य काफी उज्वल है  



7. कम्पनी के वैल्यूएशन को देखकर 

बहुत सी कम्पनियां ऐसी हैं जिनकी वैल्यू तो बहुत कम है किन्तु वे बुनियादी तौर पर बहुत मजबूत हों ऐसे स्टॉक को हम मल्टीबैगर स्टॉक कहते हैं उनका चुनाव किया जा सकता है इसके अलावा शेयर की चाल को देखें  समझें, वॉल्यूम को देखें उसको समझे, ब्रेकआउट को देखें इससे आपको शेयर में आने वाले रुझान का पता चलता है इसको आप इन  चित्रों के माध्यम से देख और समझ सकते हैं जहां आप हाई वौल्यूम साथ खरीदारी देख सकते हैं जिसका मतलब मैंने बताया था कि स्मार्ट इन्वेस्टर की खरीदारी  


चित्र न. १ 



चित्र न. २ 




तो मेरे हिसाब से अब आप समझ गए होंगे कि
 मल्टी बैगर स्टॉक कौन होते हैं और इन्हे कैसे ढूंढते हैं अगर कम शब्दों में कहें तो इसके लिए कम्पनी का फंडामेंटल , मैनेजमेंट, कम्पनी की भविष्य का प्लान, सरकार का उस सेक्टर पर फोकस और जनता का मूंड आदि पर गौर किया जाता है  

तो अब मै अपना अध्याय यहीं समाप्त करती हूँ अगर आपका कोई प्रश्न हो तो कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं मै आपके प्रश्न का जवाब अवश्य दूंगी - धन्यवाद् 

Must Read This :

१. Need Of Investment / Why To Invest / Where To Invest२. Best Share Market Books In India३. Stock Market Scam In India ꘡ Stock Market Fraud In India४. Top 5 Largest Companies by Net Profits in India FY2019-2020५. How To Select A Stock to Invest In Share Market For Consistent Return६. How To Invest In Stock Market In India? Beginner's Guide (In Hindi )७. MOVING AVERAGE DEFINITION & CALCULATION८. What is the Dividend - Definition of the Dividend९. Why a Company Buy Back its own Share१०. Stock Volume - How To Use Volume To Improve Your Trading११. How To Make A Profit In The Stock Market - शेयर मार्केट में लाभ कमाने का तरीका

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ